बुन्देलखण्ड पिछड़ा और गरीब है !

  • वाल्मीकि, वेदव्यास, भवभूति, मित्र मिश्र, जगनिक, गोस्वामी तुलसीदास, आचार्य केशवदास, बिहारी, भूषण, पधाकर, चन्द्रसखी, ईसुरी, राय प्रवीण, सुभद्राकुमारी चौहान, सेठ गोविन्ददास और राष्ट्रकवि मैथिलीशरण गुप्त, घासीराम व्यास, डा. वृन्दावनलाल वर्मा जैसे शतश: साहित्य-देवताओं को जन्म देकर भी।
                                                                                                                                                                     
    बुन्देलखण्ड पिछड़ा और गरीब है।

  • रणबाँकुरे आल्हा-ऊदल, बिराटा की पधिनी, प्रतापी वीरसिंह देव, यशस्वी छत्रसाल, त्यागवीर हरदौल, रणचन्डी दुर्गावती, रेहली के विद्रोही बुन्देला, स्वातन्त्रय ज्योति रानी लक्ष्मीबार्इ रामगढ़ की रानी, विश्व विख्यात क्रानितदूत पं0 परमानन्द, चन्द्रशेखर आजाद, महौर और मल्कापुरकर जैसे सहस्त्रों शौर्य-नक्षत्रों को उत्पन्न करके भी ...
                                                                                                                                                                      बुन्देलखण्ड पिछड़ा और गरीब है।

  • संगीत सम्राट तानसेन, गायक बैजू, मृदंगाचार्य कुदऊ, विश्व विजयी गामा हाकी के जादूगर ध्यानचन्द, उस्ताद, आदिल और चित्रकार कालीचरन जैसे अगणित रस सिद्ध कलावन्त उपजा कर भी ......
                                                                                                                                                                      बुन्देलखण्ड पिछड़ा और गरीब है।

  • खजुराहो, देवगढ़, अजयगढ़, चंदेरी, ग्वालियर जैसे पुरातत्व और स्थापत्य केन्द्र चित्रकूट, ओरछा, कालिंजर, अमर कण्टक, सोनागिरि, पावागिरि, सूर्य मंदिर उन्नाव जैसे तीर्थ सँजोकर भी ...                                                                                                                                                                     बुन्देलखण्ड पिछड़ा और गरीब है।

  • लाखों एकड़ उर्वरा भूमि, श्रम साधु खेतिहर, महुआ जीवी मजदूर और नर्मदा, बेतवा, केन, धसान, चम्बल, सिंध, पहूज, तमसा, पयसिवनी आदि अनेक अमृत वाहिनी जल धाराओं का वरदान पाकर भी ....
                                                                                                                                                                      बुन्देलखण्ड पिछड़ा और गरीब है।

  • पन्ना की हीरा खदान, भेड़ाघाट के संगमर्मर और भूगर्भ में सोना, चांदी, मैंगनीज, जस्ता, तांबा, लोहा, अभ्रक और गौरा की अपार खनिज सम्पत्ति के भण्डार विंध्य श्रृंखलाओं में सुरक्षित रख कर भी ......  प्रथम श्रेणी की औद्योगिक बालू - भवन निर्माण ग्रेनाइट 
                                                                                                                                                                      बुन्देलखण्ड पिछड़ा और गरीब है।

  • विदेशी अंग्रेजों के विरूद्ध स्वातन्त्रय युद्ध का प्रथम केन्द्र होकर भी, आजादी की लड़ार्इ में हजारों बलिदान देकर भी और एकता के लिए सर्व प्रथम स्वत्व समर्पण करने पपर भी .....                                                                                                                                                                                       बुन्देलखण्ड पिछड़ा और गरीब है।

आखिर  क्यों ?
 

इस प्रश्न का उत्तर हर बुन्देलखण्डी अपनी अन्तरात्मा में खोजें !

चरम साहिष्णु बुन्देली जनता के प्रतिनिधि, विधायक और जननायक इस प्रश्न का उत्तर स्वयं दें और उनसे लें जो इसके उत्तरदायी हैं।

आजादी के  छियासठ वर्ष में भी बुन्देलखण्ड क्यों जैसे का तैसा है ? कैसे यह गरीबी और पिछड़ेपन का कलंक दूर हो सकता है। इस पर अपने विचार कृपया हमें सूचित कीजिए।

 
 द्वारकेश मिश्र , महामंत्री                                                                                                                                                                     विश्वनाथ शर्मा, अध्यक्ष
 
बुन्देलखण्ड-एकीकरण समिति, झाँसी
 
(यह भाग सन 1970 से निरन्तर प्रकाशित)